State News

हर देशवासी को जटायु बनना चाहिए

Desk

लखनऊ - प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जब लखनऊ में दशहरा पर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई की बात करते हुए जटायु का जिक्र किया तो विपक्षी पार्टियां इसपर ऐतराज जता रही है. इसपर हिंदूू संतों और नेताओं ने पीएम मोदी के बयान का समर्थन किया. हालांकि उनका यह भी कहना है कि देश के लोग जटायु बनेे तो ठीक है, पर भीष्म पितामह की तरह कोई बड़ी गलती नहीं करें. क्योंकि एक बड़ी गलती सारे अच्छे कामों पर पानी फेर देता है. रामायण में जटायु एक ऐसा चरित्र था, जिसने अपने जीवन में एक ही अच्छा काम किया था. जब रावण ने मां सीता का हरण किया तो उसने उन्हें बचाने में अपने प्राण त्याग दिए. यही एक पुण्य उसके मोक्ष की वजह बनी. इतना ही नहीं शास्त्रों में किसी पक्षी का अंतिम संस्कार करना निषेध है. इसके बावजूद भगवान श्रीराम ने गिद्धराज का अंतिम संस्कार किया. इसके उलट महाभारत में एक उदाहरण है, जहां भीष्म पितामह ने सभी नेक और धर्म के काम किए, बस एक अधर्म किया. वो था पांचाली का चीर हरण. उनके सामने द्रौपदी का चीर हरण हुआ और उन्हें बाणों की शैय्या नसीब हुई. तो कहीं न कहीं मनुष्य का एक अच्छा कर्म उसे मोक्ष दिला सकता है. तो प्रधानमंत्री भी यही कहना चाहते थे कि हमें भी सचेत रहना चाहिए.

Report :- Desk
Posted Date :-
State News